कोरोना वायरस : दिल्ली की गाजीपुर मंडी में ‘सोशल डिस्टैसिंग’ की उड़ीं धज्जियां

  Written By:    Updated On:
  |  


कोरोना वायरस :  दिल्ली की गाजीपुर मंडी में 'सोशल डिस्टैसिंग' की उड़ीं धज्जियां

नई दिल्ली:

सरकारों की ओर से लाख कोशिशों के बाद भी लोग सोशल डिस्टैसिंग के उल्लंघन और उसके लिए बनाए गए नियमों को तोड़ने से बाज नहीं आ रहे हैं. आप तस्वीर में जो नजारा देख रहे हैं वह दिल्ली की गाजीपुर मंडी इलाके का है. यह मंडी थोक सब्जियों और फलों के लिए है. यहां से खुदरा दुकान माल ले जाते हैं. लेकिन ऐसा लगता है कि यहां पर प्रशासन ने सोशल डिस्टैंसिंग को लेकर कोई खास इंतजाम नहीं किए हैं. गाजीपुर मंडी नोएडा-गाजियाबाद इलाके से बिलकुल सटी हुई है. नोएडा में भी मरीज कोरोना वायरस के केसों की संख्या लगातार बढ़ रही है वहीं दिल्ली में कई जगह हॉट स्पॉट घोषित किए जाने के बाद भी सरकार हैरान है कि मरीजों की संख्या क्यों बढ़ रही है. 

इसको देखते हुए दिल्ली सरकार ने हॉटस्पॉट या कंटेनमेंट जोन में रह रहे लोगों के लिए एक बड़ा आदेश जारी किया है. दिल्ली सरकार ने आदेश दिया है कि हॉटस्पॉट या कंटेनमेंट जोन इलाकों में 14 दिन के अंदर तीन बार हर व्यक्ति की स्क्रीनिंग की जाए. दिल्ली सरकार के आदेश में कहा गया है कि ‘किसी भी इलाके को कंटेनमेंट जोन घोषित करने के 14 दिन में कम से कम 3 बार वहां रह रहे सभी लोगों की स्क्रीनिंग की जाए. अगर अभी तक किसी कंटेनमेंट जोन में स्क्रीनिंग नहीं हुई है तो अगले 3 दिन के अंदर पहली स्क्रीनिंग की जाए. इसके बाद प्रोटोकॉल के हिसाब से कोरोना टेस्ट किए जाएं’

अभी तक हॉटस्पॉट या कंटेनमेंट जोन के अंदर हर घर के हिसाब से सर्वे किए जाते थे और अगर कोई दिक्कत नजर आती थी तब कार्रवाई की जाती थी. लेकिन अब हॉटस्पॉट या कंटेनमेंट जोन के अंदर रह रहे हर व्यक्ति की 14 दिन के अंदर तीन बार स्क्रीनिंग की जाएगी. हॉटस्पॉट या कंटेनमेंट जोन के अंदर लगातार बढ़ रहे कोरोना मामले देखते हुए दिल्ली सरकार ने ये फैसला किया है. 

दिल्ली में 98 हॉटस्पॉट या कंटेनमेंट जोन हैं. जिन में अभी तक करीब 7000 लोगों के सैंपल टेस्ट के लिए भेजे गए और 381 लोग कोरोना संक्रमित पाए जा चुके हैं. यह हाल तब है जब लॉकडाउन जारी है, इलाका सील है. इन कंटेनमेंट जोन या हॉटस्पॉट में करीब 5 लाख की आबादी सीलिंग की सख्ती के अंदर हैं. एक बात यह भी है कि हॉटस्पॉट या कंटेनमेंट जोन में रहने वाले लोगों के जो करीब 7000 सैंपल लैब में टेस्ट के लिए भेजे गए हैं उनमें से बहुत से अभी लंबित हैं यानी इनके नतीजे नहीं आये हैं. 

क्या है स्क्रीनिंग?

स्क्रीनिंग के अंदर कंटेनमेंट लोन या हॉटस्पॉट के अंदर रहने वाले हर व्यक्ति के शरीर का तापमान मापा जाएगा. देखा जाएगा कि व्यक्ति को किसी तरह के कोई लक्षण तो नहीं है या फिर वह बीमार तो नहीं है। क्लीनिंग के जैसे नतीजे आएंगे उसके आधार पर तय किया जाएगा कि व्यक्ति का कोरोना टेस्ट करवाना है या कुछ और उचित कार्रवाई करनी है. 

क्या है सर्वे

सर्वे के अंदर स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन के लोग हर घर में जाकर परिवार के लोगों की जानकारी इकट्ठा किया करते थे पूछताछ करते थे. इस सर्वे सिस्टम में यह आशंका थी कि लोग अपने बारे में सही जानकारी छुपा भी सकते थे. लेकिन जब हर व्यक्ति की स्क्रीनिंग होगी तो छुपने-छुपाने की संभावना कम हो सकती है.





Source link

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap