बिहार: लालू यादव को परोल पर रिहा करें, RJD ने की मांग, बेटे तेजस्‍वी यादव ने ‘कोविड-19 खतरे’ को लेकर जताई चिंता..

  Written By:    Updated On:
  |  


बिहार: लालू यादव को परोल पर रिहा करें, RJD ने की मांग, बेटे तेजस्‍वी यादव ने 'कोविड-19 खतरे' को लेकर जताई चिंता..

तेजस्‍वी यादव ने अपने पिता की सेहत को लेकर ट्वीट करके अपनी पीड़ा का इजहार किया है

पटना:

Coronavirus Pandemic: देश में कोरोना वायरस की महामारी के बीच RJD नेता तेजस्‍वी प्रसाद (Tejashwi Yadav) ने अपने पिता और पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के स्‍वास्‍थ्‍य को लेकर चिंता जताई है. बहुचर्चित चारा घोटाले में दोषी ठहराए गए आरजेडी सुप्रीमो लालू इस समय रांची के अस्‍पताल में इलाज चल रहा है. लालू किडनी, हॉर्ट और शुगर जैसी कई बीमारियों से जूझ रहे हैं. मीडिया में आई खबर के अनुसार लालू के इलाज कर रहे डॉक्‍टर के वार्ड में एक मरीज के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है. लालू के बेटे और बिहार के पूर्व उप मुख्‍यमंत्री तेजस्‍वी प्रसाद ने इस मामले में एक ट्वीट करके अपनी चिंता का इजहार किया. उन्‍होंने अपने ट्वीट में लिखा- मैं यह जानकार बेहद चिंतित हूं कि मेरे पिता का इलाज कर रहे डॉक्‍टर्स मेरे पिताजी का इलाज करने वाले कोरोना वायरस से संक्रमित हो सकते हैं.72 साल के मेरे पिता कई बीमारियों से जूझ रहे हैं. कोरोना से संक्रमित होने की आशंका को ध्‍यान रखते हुए उनके देखरेख में अत्‍यधिक ऐहतियात बरती जानी चाहिए.

तेजस्‍वी ने कहा, मेरे पिताजी लालू प्रसाद जी का इलाज कर रहे डॉक्टरों के कोरोना संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने और उन्हें क्वारांटाइन करने संबंधित ख़बरों के बारे में जानना तनावपूर्ण और चिंताजनक है. मैं 16 करोड़ झारखंड और बिहारवासियों की चिंताओं को इसके साथ सम्मिलित करते हुए यह सोचकर तनाव में हूं कि वे 72 वर्ष की उम्र में किडनी, हॉर्ट, शुगर जैसी बीमारियों से जूझते हुए कोरोना जैसी संक्रमित महामारी के लिए सबसे अधिक असुरक्षित हैं इसलिए उन्हें अत्यधिक सुरक्षा और सावधानी चाहिए. जिस किसी के पास परिवार होता है वही ऐसे दर्द और तनाव को समझ सकता है जिससे हम गुजर रहे हैं. 

लालू की पार्टी आरजेडी ने तो इस खतरे के मद्देनजर अपने नेता को परोल पर रिहा करने की मांग कर डाली है.

इससे पहले तेजस्‍वी ने ट्वीट करके बिहार की नीतीश सरकार पर भी निशाना साधा था. उन्‍होंने अपने ट्वीट में कहा था-हर संकट में सरकार को ग़रीब के सबसे करीब होना चाहिए लेकिन बिहार सरकार ठीक इसका विपरीत कर रही है. दूसरे प्रदेशों मे फंसे लाखों गरीब मज़दूरों को उनके हालात पर छोड़ देना शर्म की बात है. सभी बिहारवासियों को अपने ग़रीब भाईयों के पक्ष मे मज़बूती से आवाज़ उठानी चाहिए.

VIDEO: PM मोदी के सामने बिहार के CM नीतीश कुमार ने उठाया कोटा के छात्रों का मुद्दा





Source link

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap