COVID-19 Pandemic: गुजरात में कोरोना वायरस की महामारी से अधिक मौतों का विशेषज्ञ यह मान रहे कारण…

  Written By:    Updated On:
  |  


COVID-19 Pandemic: गुजरात में कोरोना वायरस की महामारी से अधिक मौतों का विशेषज्ञ यह मान रहे कारण...

गुजरात में कोरोना के अब तक 3300 से अधिक मामले सामने आए हैं

अहमदाबाद:

COVID-19 Pandemic: गुजरात (Gujarat) में कोरोना वायरस के मामलों में तेजी से हो रहे इजाफे ने देश को चिंतित कर दिया है. विशेषज्ञों का मानना है कि राज्‍य में COVID-19 के कारण मौतों की उच्‍च दर इस वायरस के L(एल)-टाइप स्ट्रेन की बहुलता बताई जा रही है. गौरतलब है कि कोरोना वायरस के कई रूप यानी स्ट्रेन हैं जिनमें से उसके एल-स्ट्रेन वाले रूप को काफी घातक  माना जाता है. एस-टाइप एक की तुलना में अधिक वायरल एल-टाइप कोरोनवायरस वायरस का प्रभुत्व गुजरात में मौतों की ऊंची दर की वजह हो सकता है. हालांकि, इसकी पुष्टि के लिए अब तक कोई शोध नहीं किया गया है. राज्‍य में अब तक कोरोना वायरस के कारण करीब 150 लोगों की जान गई है. 

गौरतलब है कि एल-टाइप वाला वायरस चीन के वुहान (Wuhan)में भी बहुलता पाया गया था. एल-स्ट्रेन वाला वायरस एस-स्ट्रेन वाले वायरस की अपेक्षा ज्यादा घातक होता है. गुजरात बायोटेक्नोलॉजी रिसर्च सेंटर (GBRC) के एक वैज्ञानिक ने भी गुजरात में एल-स्ट्रेन वाले वायरस की पुष्टि की है. इस सेंटर के निदेशक सीजी जोशी ने यह भी बताया कि एल-स्ट्रेन वाले वायरस के ज्यादा खतरनाक होने के कारण ही वुहान में कोरोना वायरस ने तबाही मचाई थी. उन्‍होंने कहा कि ए‍क मरीज के जीनोम सीक्‍वेंस के लिए हमने जो सैंपल लिया है, उसमें एल टाइप स्‍ट्रेन ही है. एल टाइप स्ट्रेन, एस-टाइप स्‍ट्रेन की तुलना में काफी घातक है और गुजरात में मौत की दर ज्यादा होने के पीछे ये एक बड़ी वजह हो सकता है. 

गौरतलब है कि भारत में कोरोनावायरस से अब तक 872 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि संक्रमित मामलों की संख्या बढ़कर 27,892 हो गई है. स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) की ओर से सोमवार को जारी ताजा आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटों में कोरोना के 1,396 नए मामले सामने आए हैं और 48 लोगों की मौत हुई है. हालांकि, थोड़ी राहत वाली बात यह है कि इस बीमारी से अब तक 6,185 मरीज ठीक को चुके हैं. 24 घंटे में 381 लोग ठीक हुए हैं. गुजरात की बात करें तो यहां अब तक 3300 से अधिक मामले सामने आए हैं, इसमें 2837 लोगों को अभी इलाज चल रहा है जबकि 313 लोग इलाज के बाद ठीक हो चुके हैं.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap